मेम्बर बने :-

Wednesday, December 13, 2017

आत्म-स्वीकारोक्ति











आत्म-स्वीकारोक्ति

मैं कह नहीं सकती,
बेवफ़ा उसको भी,
हाँ! मैंने देखा है,
उसकी वफ़ा को भी। 

रही होगी कोई भी,
मजबूरी तभी तो,
छोड़ गया तन्हां,  
यूँ, यहाँ मुझको भी। 

तन्हां कहना भी,
शायद गलत होगा,
वह मौजूद रहता है,
तन-मन में अभी भी। 

जुदा है जिस्म अभी,
है ना असर मुझ पर,
पर तुम समझते हो,
कायर उसे अभी भी।    

हमारा न था कभी भी,
जिस्मानी रिश्ता,  
आत्मिक रिश्तों को,
ना समझोगे कभी भी। 

गुजर रहा अभी,
जीवन, ख़ुशी में “राही”,
शक राधा-कृष्ण पर,   
न करता कोई भी। 

-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

Monday, December 11, 2017

मित्र मंडली -47



मित्रों ,
"मित्र मंडली" का सैतालीसवाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है। इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है।  इसमें  दिनांक 04.12.2017  से 10.12.2017  तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।

पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है  :-

HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML
मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों  तक पहुँचाना है। 

आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी  के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा।  

प्रार्थी 

राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -47      

 इस सप्ताह के नौ रचनाकार 

"फरके रोटियों की कौन पैदा करता हैं।

अनु अन्न लागुरी  जी 

जब हम बने सर्पमित्र !

मीना शर्मा जी 

उड़ चला है वक्त.....

यशोदा अग्रवाल  

"वक्त के साथ सबको चलना है नहीं तो असंतोष, पछतावा और  दुःख के सिवा कुछ नहीं मिलने वाला। सुन्दर सीख देती कविता।"

कविता "तुम मेरे मम्मी-पापा हो"


राधा तिवारी  जी  

"मैं"

मीना भारद्वाज  जी 

फिर चोट खाई दिल ने ---कविता --

रेणु  बाला जी  

हाँ मैं ख़्वाब लिखती हूँ

श्वेता सिन्हा जी 

व्यर्थ का अर्थ

पुरषोत्तम कुमार सिन्हा जी 

सखी : सागर की मोती

प्रकाश साह जी

आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 18-12-2017  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

मेरी दो प्रस्तुति  : 

1. फोटोग्राफी : पक्षी 38 (Photography : Bird 38 )



Friday, December 8, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 39 (Photography : Bird 39 )


Photography: (dated 12  10 2017 07:00 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Common stonechat Female

Siberian Stonechat or Asian Stonechat has recently been recognized as a species of the old World Flycatcher family (Muscope). It is similar to the European Stonechat (S.Robicola), but with less orange color on the chest with a white crust and usually darker color below. 

Scientific name:  Saxicola maurus

Photographer   :  Rakesh kumar srivastava

साइबेरियाई स्टोनचेट या एशियन स्टोनचेट, हाल ही में पुराने वर्ल्ड फ्लाईकैचर परिवार (मस्किकापिडे) की प्रजाति के रूप में मान्यता दी गई है ।यह यूरोपीय स्टोनचेट(एस रबिकोला)के जैसा होता है, लेकिन छाती पर कम नारंगी रंग के साथ एक सफेद पपड़ी और आम तौर पर नीचे गहरा रंग होता है।

वैज्ञानिक नाम: सैक्सिकोला माउरस
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव
अन्य भाषा में नाम:-
Gujarati:મેંદીયો પિદ્દો; Marathi/हिन्दी:गप्पीदास, गोजा








-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"



Wednesday, December 6, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 38 (Photography : Bird 38 )


Photography: (dated 20 10 2017 07:30 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Indian peafowl or peacock(The male)

The Indian peafowl or blue peafowl, A brightly colored bird is found in many parts of the world besides South Asia.
The peacock was declared a national bird of India in 1963 due to its India's national religious traditions and being found in all the places of India. 


Scientific name:  Pavo cristatus
Photographer   :  Rakesh kumar srivastava

भारतीय मयूर या नीले मयूर. एक चमकीले रंग का पक्षी, दक्षिण एशिया  अलावा  दुनिया के कई हिस्सों में पाया जाता है ।
भारत के राष्ट्रीय परंपराओं में अपनी धार्मिक और सभी जगह सामान रूप में पाए जाने के  कारण मोर को 1963 में भारत का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया था।
वैज्ञानिक नाम: पावो क्रिस्टटस
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम:-

Bengali:ময়ূর; Bhojpuri: मोर; French: Paon bleu; Gujarati: મોર (નર), ઢેલ (માદા); Hindi: मोर, नीला मोर; Kannada: ನವಿಲು; Malayalam: ഇന്ത്യൻ മയിൽ, നീലമയിൽ; Marathi: मोर (नर), लांडोर (मादी); Nepali: निलो मयूर, मुजुर; Oriya: ମୟୂର; Sanskrit: मयूर, भुजङ्गभुज्; Tamil: இந்திய மயில்; Telugu: నెమలి







                             छतबीर चिड़ियाघर जीरकपुरपंजाब

-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"



Monday, December 4, 2017

मित्र मंडली -46



मित्रों ,
"मित्र मंडली" का छियालीसवाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है। इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है।  इसमें  दिनांक 27.11.2017  से 03.12.2017  तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।

पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है  :-

HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML
मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों  तक पहुँचाना है। 

आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी  के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा।  

प्रार्थी 

राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -46      

 इस सप्ताह ब्लॉग जगत/मित्र-मंडली  के पाँच नवोदित रचनाकार 

इन पाँच नवोदित रचनाकारों  को आपका आशीष, स्नेह, प्रोत्साहन एवं मार्गदर्शन दें और इनके ब्लॉग का अनुशरण करें। 

सनम अब मुस्कुराओ तुम 

नीतू ठाकुर   जी 

"आदत"

मीना भारद्वाज  जी 

जीवा ---कहानी --

रेणु  बाला जी  

गीत "तुम्हें देखूं तुम्हें छू लूं"

राधा तिवारी  जी  

इस सप्ताह इनकी कोई नई रचना नहीं पोस्ट हुई है। 

प्रकाश साह जी


आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 11-12-2017  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

मेरी दो प्रस्तुति  : 

1.संगति