मेम्बर बने :-

Thursday, June 22, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 17 (Photography : Bird 17 )

Photography: (dated 12 05 2017 07: 20 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

White-throated kingfisher


The white-throated kingfisher also known as the white-breasted kingfisher or Smyrna kingfisher, is a tree kingfisher. 

Scientific name:  Halcyon smyrnensis
Photographer :   Rakesh kumar srivastava

श्वेत-गले वाली किंगफिशर को सफेद-छाती किंगफिशर या स्मिर्ना किंगफिशर के रूप में भी जाना जाता है। यह एक पेड़  पर आश्रित रहने वाला किंगफिशर है। 

वैज्ञानिक नाम: हेलसिओन स्मिर्नेन्सिस
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव
अन्य भाषा में नाम :-
Bengali: ধলাগলা মাছরাঙা; Gujarati: કલકલિયો; Hindi: किलकिला, श्वेतकण्ठ कौड़िल्ला; Kannada: ಮಿಂಚುಳ್ಳಿ; Malayalam: മീൻകൊത്തിച്ചാത്തൻ; Marathi: खंड्या, धीवर; Nepali: सेतोकण्ठे माटीकोरे;  Oriya: ଧଳା ବେକିଆ ମାଛରଙ୍କା; Punjabi: ਵੱਡਾ ਮਛੇਰਾ; Sanskrit: चंद्रकांत मीनरंक, मीनरंक; Tamil: வெண்தொண்டை மீன்கொத்தி





©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Monday, June 19, 2017

मित्र मंडली - 24



मित्रों ,
"मित्र मंडली" का चौबीसवां अंक का पोस्ट प्रस्तुत है। इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है।  इसमें  दिनांक 12.06.2017  से 18.06.2017  तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।

पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है  :-HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML
"खेद है कि तकनीकी कारणों से ग्यारहवीं कड़ी उपरोक्त लिंक पर उपलब्ध नहीं है।" 

मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों  तक पहुँचाना है। 

आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी  के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा।  

प्रार्थी 

राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली - 24 

इस सप्ताह की पाँच महिला रचनाकार 


पम्मी सिंह जी मूलतः बिहार (पटना ) से हैं। अपने पिताजी के कार्यकाल में हुए तबादलों के कारण, विभिन्न शहरों में शिक्षा ग्रहण किया।  प्रारंभिक शिक्षा राँची एवं उच्च शिक्षा दिल्ली में हुई। इनकी एक पुस्तक काव्याकांक्षा प्रकाशित हो चुकी है। इनकी कविताओं में, विभिन्न शहरों में रहने वाले लोगों की संवेदनाओं, जज्बातों एवं भावनाओं को आप सहज ही  महसूस कर सकते हैं। 


मीना शर्मा जी उच्च विद्यालय में शिक्षिका है। मेरा मानना है कि कामकाजी महिलाओं का जीवन, गृहणी की जीवन से कठिन होती  है। ऐसे में कामकाजी महिलायें, समाज के प्रति ज्यादा संवेदनशील होती है, परन्तु उस संवेदना को साहित्य के रूप में लिख कर प्रकट करना एक जीवट का कार्य है। इन्होंने, अपना एक वर्ष ब्लॉग का पूरा किया है।  इनके जज्बें को मेरा सलाम है। 


**संघर्ष -यानि संग-हर्ष जियो **


सुख-दुख



आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा । आपका सुझाव अपेक्षित है। लम्बी छुट्टी के कारण अगला अंक 10-07-2017  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

मेरी दो  पेशकश :-

फोटोग्राफी : पक्षी 16 (Photography : Bird 16)




महबूब - एक ग़ज़ल 

Friday, June 16, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 16 (Photography : Bird 16)

Photography: (dated 11 05 2017 07: 00 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Black drongo

The black drongo is a small Asian passerine bird of the drongo family Dicruridae. It is a common resident breeder in much of tropical southern Asia from southwest Iran through India and Sri Lanka east to southern China and Indonesia. It is a wholly black bird with a distinctive forked tail.

Scientific name:  Dicrurus macrocercus
Photographer :   Rakesh kumar srivastava

कोतवाल या भुजंग, ड्रोंगो परिवार डीक्रुरुडाई का  एक छोटा सा एशियाई पक्षी हैं। यह दक्षिण-पूर्वी ईरान से बहुत अधिक उष्णकटिबंधीय दक्षिणी एशिया के भारत ,श्रीलंका , चीन और इंडोनेशिया के बीच, एक सामान्य पाए जाने वाला पक्षी है। यह अपने एक विशिष्ट दो भागों में बांटा हुआ  कांटेदार पूंछ के  कारण आसानी से पहचाना जाता है।

वैज्ञानिक नाम: डाइक्रुरस मैक्रोकर्कसस
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम :-
Assamese: ফেঁচু; Bengali: কালো ফিঙে, রাজকীয় কাক; Bhojpuri: भुजइठा, भुजंगा, भुचेंगड़ा, ठाकुरजी; Gujarati: કાળો કોસીટ, કાળીયો કોશી; Hindi: कोतवाल, भुजंग; Kannada: ಕಾಜಾಣ; Malayalam: ആനറാഞ്ചി പക്ഷി; Marathi: कोतवाल, काळा गोविंद, गोचिडघुम्मा, काळबाण्या, बाणवा (आदिवासी भाग); Nepali: कालो चिबे; Punjabi: ਕਾਲ ਕਲੀਚੀ; Sanskrit: अङ्गारक, धूम्याट; Tamil: இரட்டைவால் குருவி, கரிக்குருவி








©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Tuesday, June 13, 2017

महबूब



;

       







         महबूब    

आँखें बंद कर ली, दीदार हो गया।
यही करते हुए, जीवन भी बीत  गया

ना था होश में, जो ख्वाहिश मैं करूँ,  
तेरा जलाल देख, मदहोश हो गया।
   
तेरे सजदे को छोड़, कुछ नहीं किया,
बिन मांगे ही मुझको, सब कुछ मिल गया।

तेरी रहमत मुझ पर, कुछ ऐसी हुई,
ग़रीब था कभी, मालामाल हो गया।

आवारा सा था मैं भी, इस जहाँ में  
गले लगाया आपने, मैं सुधर गया।  

कितने रहमों-करम हैं तेरे, मुझ पर,
अपने कर्म देख, शर्मसार हो गया।    

तेरी सोहबत का हुआ है ये असर,
“राही” इस जहाँ में मशहूर हो गया।

©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही" 




Monday, June 12, 2017

मित्र मंडली - 23



मित्रों ,
"मित्र मंडली" का तेईसवां अंक का पोस्ट प्रस्तुत है। इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है।  इसमें  दिनांक 05.06.2017  से 11.06.2017  तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।

पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है  :-HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML
"खेद है कि तकनीकी कारणों से ग्यारहवीं कड़ी उपरोक्त लिंक पर उपलब्ध नहीं है।" 

मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों  तक पहुँचाना है। 

आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा।  

प्रार्थी 

राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली - 23

"कालनिर्माता"




ध्रुव सिंह जी 

कितनी आशाएं पाली थीं, बिके हुए अखबारों से 

एक एथलीट को कवि  होना आम नहीं है परन्तु ये इसके एक मिशाल हैं। समसामयिक घटनाओं से  कवि  ह्रदय  को चोट लगती  है तो एक कविता का जन्म होता है।  ऐसी ही एक हालात में आकर इस कविता का जन्म हुआ है।  ऐसी  भावनाओं के धनी  को साधुवाद है। 

 तितर बितर लम्हे ...



दिगम्बर नासवा जी

अपना देखना खुद को अपने ही जैसा दिखाई देता है

पेशे से रसायन विज्ञानं के प्रोफ़ेसर , परन्तु मानवीय संवेदानाओं को महसूस करने के लिए क्या किसी ख़ास पेशे की आवश्यकता है क्या ?  भौतिक रसायन से जटिल विषय जन-मानस की वेदना को समझना है और इस क्षेत्र में भी इनको महारथ हासिल है। अक्सर इनकी रचनाओं पर टिपण्णी देने में खुद को मैं असमर्थ समझता हूँ। परन्तु इनका प्यार है कि संक्षिप्त ही सही मेरी प्रत्येक रचनाओं पर टिपण्णी देकर सदैव मुझे लिखने  को प्रेरित करते रहते हैं। 


आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 19 -06-2017  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

मेरी दो  पेशकश :-


फोटोग्राफी : पक्षी 14 (Photography : Bird 14  ) 

फोटोग्राफी : पक्षी 15 (Photography : Bird 15  )


Friday, June 9, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 15 (Photography : Bird 15 )

Photography: (dated 06 05 2017 07: 00 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Brown-headed barbet


The brown-headed barbet or large green barbet is an Asian barbet. Barbets are a group of near passerine birds with a worldwide tropical distribution. The barbets get their name from the bristles which fringe their heavy bills.
Scientific name:  Psilopogon zeylanicus or Megalaima zeylanica
Photographer :   Rakesh kumar srivastava
कोटुर या बड़ा बसन्ता: एक एशियाई बारबेट है। बारबेट्स दुनिया भर में उष्णकटिबंधीय  क्षेत्रों में पाया जाने वाला पक्षी है। यह पासरिन पक्षियों के समूह का पक्षी  हैं। 
वैज्ञानिक नाम: Psilopogon zeylanicus या Megalaima zeylanica
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव
Bhojpuri/Hindi: कोटुर, बड़ा बसन्ता; Kannada: ದೊಡ್ಡ ಕುಟ್ರ; Malayalam; വലിയ ചെങ്കണ്ണൻ കുട്ടുറുവൻ; Marathi: तपकिरी डोक्याचा तांबट; Nepali: कुमछिर्के कुथुर्के; Tamil: பச்சைக் குக்குறுவான்










©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"





Wednesday, June 7, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 14 (Photography : Bird 14 )

Photography: (dated 05 05 2017 07: 00 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Asian koel (Female)

The Asian koel is a member of he cuckoo order of birds,the Cuculiformes. It is found in the Indian SubcontinentChina, and Southeast Asia.The familiar song of the male koel is a repeated koo-Ooo. The female koel makes a shrill kik-kik-kik... call.


Scientific name:  Eudynamys scolopaceus
Photographer :   Rakesh kumar srivastava


वैज्ञानिक नाम: ईयूडनीमाई स्कोलोपैसियस 
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

एशियाई कोयल , यह कोयल कुकुलीफ़ॉर्मिस पक्षी ग्रुप का सदस्य हैं। यह भारतीय उपमहाद्वीप, चीन और दक्षिण पूर्व एशिया में पाया जाता है। पुरुष कोयल के परिचित गीत कू-ओउ है महिला कोयल किक-किक-किक ... की आवाज़ निकालती है।

अन्य भाषा में नाम :-
Assamese: কুলি, Bengali; কোয়েল, কোকিল, কুলি; Gujarati: કોયલ, કોકિલા; Hindi: कोयल; Kannada: ಕೋಗಿಲೆ; Malayalam: നാട്ടുകുയിൽ; Marathi: कोकीळ (नर), कोकीळा (मादी); Oriya: କୋଇଲି; Punjabi: ਏਸ਼ੀਆਈ ਕੋਇਲ; Sanskrit: कोकिल, पिक; Tamil: குயில்; Telugu: కోకిల 







©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"





Friday, June 2, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 13 (Photography : Bird 13 )

Photography: (dated 04 05 2017 08: 40  AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Bird Name -Purple-rumped sunbird (Female)

The purple-rumped sunbird  is a sunbird endemic to the Indian Subcontinent. Like other sunbirds, they are small in size, feeding mainly on nectar but sometimes take insects, particularly when feeding young. They can hover for short durations but usually perch to suck nectar from flowers. They build a hanging pouch nest made up of cobwebs, lichens and plant material. Males are brightly coloured but females are olive above and yellow to buff below. Males are easily distinguished from the purple sunbird by the light coloured underside while females can be told apart by their whitish throats.

Scientific name:  Leptocoma zeylonica
Photographer :   Rakesh kumar srivastava


वैज्ञानिक नाम: एलपेटोकामा ज़ीलोनिका 
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

नीलारुणकटि सूर्यपक्षी या शक्कर खोरा  भारतीय उपमहाद्वीप के लिए एक स्थानीय सनबर्ड पक्षी है। अन्य सनबर्ड्स की तरह, ये आकार में छोटे होते हैं, मुख्य रूप से पराग खाते हैं या  कभी-कभी कीड़ों को खा लेते हैं, खासकर जब युवा होते हैं। वे थोड़े समय के लिए उड़ते है और फूलों के पराग को चूसते हैं। एक लटकने वाली थैली का निर्माण अपने घोंसले के लिए करते हैं । नर चमकीले रंग के होते हैं लेकिन महिलाएं  ऊपर से जैतून रंग के और नीचे पीले रंग के होते हैं। इनके पुरुषों के नीचे  का रंग, पुरुष पर्पल सनबर्ड के तुलना में बहुत ही हलका होता  है, जबकि मादाओं को अपने सफेद गले से अलग बताया जा सकता है।

अन्य भाषा में नाम :-
Gujarati: પચરંગી શક્કરખરો, Hindi: नीलारुणकटि सूर्यपक्षी,शक्कर खोरा, Kannada: ಖಗ ರತ್ನ, Malayalam: മഞ്ഞത്തേൻകിളി, Marathi: पंचरंगी सूर्यपक्षी,  Tamil: ஊதாப்பிட்டத் தேன்சிட்டு










©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"